20240220_002009
आगराउत्तर प्रदेशब्रेकिंग न्यूज़

सालों से मांग, बंद नहीं हुआ खूनी कट, हाईवे के बंद हैं सभी कट

20221012_161107

आगरा। गुरुद्वारा गुरु का ताल कट सालों से हादसों का कट बना हुआ है। यहां पिछले सालों में छोटे-बड़े कई हादसे हो चुके हैं। सालों से इस कट को बंद करने की मांग की जा रही है। लेकिन श्रद्धालुओं के विरोध के कारण कट बंद नहीं किया जा रहा है। शनिवार को हुए हादसे के बाद एक बार फिर से इस कट को बंद करने की मांग उठी है।

नेशनल हाईवे 19 पर गुरुद्वारा गुरु का ताल के ठीक सामने कट है। इस कट के एक तरफ गुरुद्वारा है। दूसरी तरफ गुरु तेग बहादुर कॉलोनी की तरफ जाने का रास्ता है। कॉलोनी की तरफ से आने वाले सर्विस रोड होते हुए कट से सीधा हाईवे पर निकलते हैं।

यही स्थिति गुरुद्वारा गुरु का ताल की तरफ से होती है। इस कट को बंद करने की मांग सालों से की जा रही है। इस कट पर कई हादसे हो चुके हैं। तेज रफ्तार ट्रकों से यहां कई एक्सीडेंट हो चुके हैं।

2021 में NHAI की टीम का हुआ था विरोध
इस कट को बंद करने की मांग सालों से हो रही है, लेकिन 2021 में NHAI की टीम जब इस कट को बंद करने के लिए पहुंची तो उन्हें लोगों के विरोध का सामना करना पड़ा था। टीम वापस लौट गई थी। जबकि इससे पहले इसी हाईवे पर कामायनी कट, सिकंदरा थाने के सामने का कट, कैलाश मंदिर का कट बंद किया गया था।

हुए हैं पहले भी कई एक्सीडेंट
हर रोज छोटे एक्सीडेंट के अलावा 2020 में कंटेनर रात में सोते लोगों पर चढ़ गया था। इस हादसे में छह की मौत हो गई थी। 2018 में एक ट्रक ने स्कूटी सवार एक प्ले ग्रुप की डायरेक्टर को टक्कर मारी थी, उसकी मौके पर ही मौत हो गई थी। कुछ दिन पहले इसी कट पर एक ट्रक ने एक स्कूटी सवार को टक्कर मार दी थी। लगभग दो महीने पहले इसी कट पर सुबह के समय तेजी से गुजरते ट्रक ने बाइक सवार को टक्कर मारी थी, जिसमें उसके गंभीर चोटें आई थीं।

post_1708366561049
Media_1708366826635
Media_1708366753545
post_1708366469781
post_1708366440276

कई जगह हैं अवैध कट
वॉटर वर्क्स से लेकर सिकंदरा मंडी तक हाईवे पर लोगों ने अवैध कट भी बनाए हुए हैं। लंगड़े की चौकी फुटओवर ब्रिज के पास एनएचएआई ने लोहे की रेलिंग में छह फुट की जगह छोड़ दी है। लोगों ने इसी को रास्ता बना लिया है। लंगड़े की चौकी से कुछ ही दूरी पर दूसरा कट खुला हुआ है। इससे भी पूरे दिन लोगों का आवागमन बना रहता है। तीसरा कट अबुलउला दरगाह के सामने हाईवे पर है। यहां भी रेलिंग खुली छोड़ी गई है।

कामायनी कट बंद करने के बाद बना था फुटओवर ब्रिज
गुरुद्वारा गुरु का ताल के पास ही फुट ओवर ब्रिज बनाया गया है। इस ब्रिज का निर्माण कामायनी कट बंद करने के बाद किया गया था। उद्देश्य था कि लोगों को पैदल एक सर्विस रोड से दूसरी तरफ जाने में दिक्कत न हो, वे इस ब्रिज का इस्तेमाल करें। जबकि हकीकत है कि इस ब्रिज पर पूरा दिन भिखारी सोते रहते हैं।

हर रोज लगता है जाम
इस कट पर हर रोज जाम लगता है। शनिवार को भी एक्सीडेंट के बाद लगभग सात किलोमीटर लंबा जाम लगा। इस कट पर ट्रैफिक पुलिस की ड्यूटी होती है। लेकिन पुलिस न तो सुबह होती और न ही रात में। आसपास रहने वाले लोगों ने बताया कि पुलिस पूरा दिन सिर्फ चालान काटती है। वे जाम खुलवाने या वाहनों को निकालने में ध्यान नहीं देती है।

जिला नजर

20221012_124519

Related Articles

Back to top button